section and everything up till
*/ ?> Akash Yadav Archives - Shabdoni Sangathe

मुलाकात – Lekhanotsav

मेरे छोटे से कमरे में, मेरी मुझसे मुलाकात हुई हैं,
जिस्म सिराहने रख रूह से, थोड़ी सी कुछ बात हुई हैं।

मैं तो खामोश बैठा था, पर दिल मेरा सब बोल रहा था,
कोरे से एक पन्ने पर मानो, स्याही की बरसात हुई हैं।।

मैं सारी दुनिया देख रहा था, एक कोने में बैठा बस,
अपनों की राह तकने में, यूँ बैठे- बैठे रात हुई है।

एक तमाशा ये भी देखा, मैंने दुनिया वालों का,
ज़िंदा रहते जुदा हुए सब, मरने पर दुनिया साथ हुई हैं।।

कुछ यूँ चढ़ा हैं नशा ये सबको, भेड़ चाल चलने का,
जैसे कि काँटों वाली भी, राहें ये ख़राबात हुई हैं।

अपने हक को पाने को, लड़ना पड़ता हैं खुद से ही,
खुद से लड़ लड़ कर मेरी, खत्म सारी मुदारात हुई हैं।।

🖊️Akash Yadav

ऐ ज़िन्दगी

जी भर कर, हँसना चाहता हूँ,
तेरी मुस्कुराहट का, दीवाना बना ले।
ऐ ज़िन्दगी, करीब आ ज़रा,
एक दफ़ा प्यार से, गले लगा ले।।

रोज़ निकलते हैं, बस ढूंढ़ने तुझे,
अपना कुछ तो पता दे।
एक दुआ कुबूल कर हमारी,
ज़रा हमें, ज़ीना सिखा दे।।

आ बैठ, दो पल साथ हमारे,
संग मेरे, थोड़ा तो मुस्कुरा ले।
ऐ ज़िन्दगी, करीब आ ज़रा,
एक दफ़ा प्यार से, गले लगा ले।।

उस मौत को खुद पर, गुरूर बहुत हैं,
कहती हैं मुझसे, प्यार बहुत हैं।
जानता हूँ, फ़िक्र नहीं तुझे मेरी,
पर पलटकर उसे कुछ तो ज़बाब दे।।

बस कर लिया, सफर ज़माने का,
अब तू अपनी, पनाह में ले।
ऐ ज़िन्दगी, करीब आ ज़रा,
एक दफ़ा प्यार से, गले लगा ले।।

खफा हैं, क्यों इतनी मुझसे,
मेरी खता तो बता दे।
माना मेहमान से हैं तेरे,
बस एक पल, तू अपना बना ले।।

सहला कर, बस थोड़ा मुझे,
तू अपनी गोद में उठा ले।
ऐ ज़िन्दगी, करीब आ ज़रा,
एक दफ़ा प्यार से, गले लगा ले।।

🖊️Akash Yadav

तेरा असर

तुझे देखकर चेहरा मेरा , खिलखिलाकर हँस जाता हैं
तुम्हे सामने पाऊ नहीं तो, हर पल सहम सा जाता हैं

वो प्यारा मासूम सा चेहरा, हरदम ख्वाबों में आता हैं
कितना भी हम चाहे भुलाना ,हमसे भूला ना जाता हैं

तुम्हारे ख्वाब में आने की, हसरत तो हमारी भी हैं
पर द्वार पर पलको का , एक पहरेदार आता हैं

पता नहीं कैसा ये, तेरा मेरा नाता हैं
तुम्हे देखकर चेहरा मेरा, खिलखिलाकर हँस जाता हैं

मैं तो कबका थककर, हिम्मत हार गया होता

दुनिया के तानो से डरकर, कबका भाग गया होता

दुनिया के इस मेले में , मैं तो खो गया होता
अंधेरो से डरकर ही, राह में सो गया होता

पर अंधेरी राहों में जब , तू सामने मुस्कुराता हैं
तुम्हे देखकर चेहरा मेरा, खिलखिलाकर हँस जाता हैं

🖊️Akash Yadav
Valentine Special